CM योगी | महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने पर बोले | इसे खत्म करने के लिए जड़ पर करना होगा

 

सीएम योगी ने यह निर्देश अपने सरकारी आवास पर महिला सुरक्षा और सशक्तीकरण के सम्बन्ध में गृह विभाग के एक प्रस्तुतीकरण के अवसर पर दिया। उन्होंने कहा कि अभियान से संबंधित सभी विभाग 12 अक्टूबर की शाम तक अपने द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार कर प्रस्तुत करेंगे।

कार्यान्वयनतीकरण के दौरान मुख्यमंत्री ने विमेन पावर लाइन ‘1090’ और सेफ सिटी परियोजना के अंतर्गत सम्पादित कार्यों के सम्बन्ध में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि ‘1090’ की कार्यवाही को और प्रभावी बनाया जाए और महिला और बालिका की संतुष्टि तक की मनिटरिंग की जाए।

सीएम योगी ने कहा कि यह अभियान आगामी शरारी नवरात्रि से लेकर बासंतिक नवरात्रि तक निरन्तर शुरू होगा। अभियान के पहले चरण में महिला सुरक्षा और सशक्तिकरण के सम्बन्ध में व्यापक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए।

दूसरे चरण में अभियान को ऑपरेशन के रूप में संचालित किया जाना चाहिए। इस दौरान महिला सुरक्षा और सशक्तीकरण के प्रकरणों के सम्बन्ध में प्रवर्तन कार्यदाय की होना। सीएम योगी ने ये भी कहा कि महिलाओं और बालिकाओं की सुरक्षा और सशक्तीकरण अभियान का एक सर्वस्वीकार्य नामकरण किया जाएगा साथ ही, ‘लोगो’ भी तैयार किया जाए।

उन्होंने पहले चरण में व्यापक जागरूकता कार्यक्रम के लिए ‘मिशन शक्ति’ और प्रवर्तन कार्यवाही संबंधितधी दूसरे चरण के लिए ‘ऑपरेशन शक्ति’ नाम का सुझाव दिया। लोगो और नाम का दिया सीएम ने सुझाव दिया मुख्यमंत्री ने कहा कि शारदीय नवरात्रि के दौरान पूजा पंडालों और रामलीला स्थलों पर कन्या भ्रूण हत्या, महिलाओं के प्रति हिंसा आदि अपराधों पर प्रभावी अंकुश लगाने के सम्बन्ध में जागरूकता सज्जित करने वाली लघु फिल्मों और नुक्कड़ नाटकों आदि के प्रदर्शन किया जाना चाहिए।

12 अक्टूबर तक अभियान की रूपरेखा प्रस्तुत करना महिला सुरक्षा के लिए जागरूकता वाली लघु फ़िल्में और नुक्कड़ नाटक का ले सहारा यह माध्यम व्यापक जागरूकता में बड़ी भूमिका निभा सकता है। अभियान के साथ विभिन्न इच्छुक स्वयंसेवी, वाणिज्यिक, संगठन और संसाधन को भी जोड़ा जाना चाहिए। संवाद मेकर अधिकाधिकारी को जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनसहभागिता से ही जन आन्दोलन बनता है। इसके दूरदर्शी व्यापक जनसहभागिता के प्रयास किए जाने चाहिए।